बागी पार्षद चंद्रावती का नामांकन रद्द, CHD कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने दी सख्त चेतावनी

0
291

चंडीगढ़ 5 JAN 2021। भाजपा की बागी चंद्रावती शुक्ला द्वारा मेयर पद के लिए भरा गया नामांकन मंगलवार को तकनीकी कारणों से रद्द कर दिया गया। रिटर्निंग अधिकारी के अनुसार इस पद के लिए चंद्रावती शुक्ला के प्रपोजर सतीश कैंथ थे। साथ ही कैथ ने कांग्रेस के इसी पद के उम्मीदवार दविन्दर सिंह बबला के नामांकन पत्र पर प्रपोसर के खाने के हस्ताक्षर किए थे। नियमानुसार एक व्यक्ति एक समय में एक ही प्रत्याशी का प्रपोसर हो सकता है। यही कारण तकनीकी कारण से शुक्ला का नामांकन रद्द कर दिया गया। वहीं सतीश कैंथ का आरोप है कि इसमें कोई तकनीकी गड़बड़ी नहीं है। भाजपा ने प्रभाव डाल ऐसा करा दिया।

रिटर्निंग अधिकारी ने किया स्पष्ट

रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त आयुक्त अनिल गर्ग ने भी स्पष्ट किया कि तकनीकी कारणों से चंद्रवति शुक्ला का नामांकन खारिज कर दिया गया है। चंद्रावती शुक्ला के पति पप्पू शुक्ला ने नामांकन रद्द होने का आरोप भाजपा पर लगाया है। शुक्ला ने दावा किया कि भाजपा को पता था की चंद्रावती शुक्ला चुनाव जीत जाएगी। शुक्ला ने यह दावा भी किया कि उनके पास 14 पार्षदों का भी समर्थन था।

भरत कुमार ने भी बागी तेवर दिखाये
मेयर के साथ अन्य दो पदों के प्रत्याशी घोषित होते ही पार्षद भरत कुमार ने भी बागी तेवर दिखाये। बताया जाता है कि भाजपा नेताओं की ओर से उन्हें मनाने का  प्रयास जारी हैं। कल बगावती तेवर दिखाते हुए भरत कुमार ने कहा था कि अब वह भाजपा के पार्षद नहीं है, वह सिर्फ अपने एरिया के पार्षद हैं। कल उन्होंने भाजपा के सभी पदों से त्यागपत्र देने की घोषणा की थी पर अभी तक किसी भी पद से त्यागपत्र की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
कांग्रेस अध्यक्ष छाबडा ने दी सख्त चेतावनी

प्रदीप छाबड़ा ने बीजेपी के नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए

पार्षद व पूर्वांचली नेता चंद्रावती शुक्ला के मेयर पद पर भरे नॉमिनेशन को रद्द करने पर चंडीगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने बीजेपी के नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सत्ता के लिए इनके नेता इस तरह धक्केशाही कर सकते है, उसका ये प्रमाण है। कांग्रेस का चंद्रावती शुक्ला को समर्थन से डरी व बौखलाये बीजेपी के नेताओं ने नामांकन ही रद्द करवा दिया। क्योंकि इनकी आपसी लड़ाई पार्षदों के बगावती तेवर कांग्रेस की रणनीति व दिखती हार को देख नामांकन रद्द कर लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा दी। छाबड़ा ने प्रशासन व नगर निगम के अधिकारियों को आगाह करते हुए कहा कि सरकारें आती जाती रहती हैं, अधिकारी बीजेपी के नेताओं की कठपुतली ना बने ओर ना ही ऐसे निर्णय ले जो अलोकतांत्रिक हो। चंडीगढ़ कांग्रेस चंद्रावती शुक्ला के साथ डट के खड़ी है।

इस बार 24 पार्षद ही चुनेंगे मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर व डिप्टी मेयर
चंडीगढ़। इस बार सिर्फ 24 पार्षद ही चुनेंगे मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर। क्योंकि पदेन पार्षद सांसद किरण खेर अपने इलाज के लिए मुंबई बताए जा रहे हैं, जबकि भाजपा की एक पार्षद हीरा नेगी कोरोना पाॅजिटीव होने के कारण पीजीआई में भर्ती हैं। वहीं दूसरी ओर आकाली दल के पार्षद हरदीप सिंह किसान आंदोलन को मद्दे नजर चुनाव का बहिष्कार कर सकते हैं। इस प्रकार से भाजपा से 19, कांग्रेस से पांच यानी 24 पार्षद ही चुनाव में हिस्सा लेंगे। नोमिनेटेड नौ पार्षदों को सदन में मतदान का अधिकार नहीं है। संबंधित मामला कोर्ट में हैं।

तीनों पदों के ये हैं उम्मीदवार
भाजपा की ओर से मेयर के लिए रविकांत शर्माए सीनियर डिप्टी मेयर के लिए महेश इंदर सिंह और डिप्टी मेयर के लिए फर्मिला उम्मीदवार बनाए गए हैं। वहीं कांग्रेस पार्टी की ओर से मेयर के लिए देवेंदर सिंह बबलाए सीनियर डिप्टी मेयर के लिए रविंदर कौर गुजराल और डिप्टी मेयर के लिए सतीश कैंथ को उम्मीदवार बनाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here