डीएसई रुबिन्दर बराड़ के खिलाफ रंजीत मिश्रा ने खोला मोर्चा, कहा इसको पंजाब भेजो

0
1293
डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन रूबिन्दर जीत सिंह बराड़ (PCS अधिकारी)
पिछले करीब पांच साल में किए गए सभी कामों की विजिलेंस जांच की मांग, बराड़ कई सालों से CHD में 
शिक्षा विभाग ग्रुप डी यूनियन के प्रधान रंजीत मिश्रा
रिपोर्ट-राज सिंह 
चंडीगढ़ 17 जनवरी 2021। शिक्षा विभाग ग्रुप डी यूनियन के प्रधान रंजीत मिश्रा ने गवर्नर से मांग की है कि डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन रूबिन्दर जीत सिंह बराड़ (PCS अधिकारी) को तुरंत पंजाब वापिस भेजा जाए। इसके अलावा करीब छह साल से एजुकेशन डिपार्टमेंट में कुंडली मारकर बैठने के कारणों और किए गए कामों की भी जांच विजिलेंस से कराई जाए। आखिरकार बराड़ में वो कौन कौन सा गुण है, जो यूटी के अन्य अधिकारियों में मौजूद नहीं है। रंजीत मिश्रा ने गवर्नर और एडवाइजर से भी सवाल किया है कि किस किस नेता के इशारे या प्रभाव में रूबिन्दर जीत सिंह बराड़ को करीब छह सालों से यहां रखा गया है। मिश्रा ने कहा कि अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ते हुए बराड़ के कार्यकाल का छठा साल चल रहा है, जबकि इतने दिनों तक इस विभाग में डेपुटेशन पर किसी अन्य अधिकारियों को नहीं रखा गया। 
इसी तरह की कई मनमानी के खिलाफ शिक्षा विभाग के ग्रुप डी यूनियन ने बराड़ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वहीं यूनियन ने यह भी ऐलान कर दिया है कि चार फरवरी को एजुकेशन विभाग के मुख्यालय का घेराव किया जाएगा और बराड़ का पुतला फूंक प्रदर्शन भी इसी दिन किया जाएगा। यूनियन नेताओं ने यह भी साफ कर दिया है कि इसी मुख्यालय पर पांच फरवरी से तब तक भूख हड़ताल चलेगा, जब तक बराड़ को पंजाब वापिस नहीं भेज दिया जाता और ग्रुप-डी की माँगें नहीं मान ली जातीं।
यूनियन के प्रधान रंजीत मिश्रा ने यह भी बताया कि साल 2015 से DHE/DSE  रूबिन्दर जीत सिंह बराड़ से यूनियन के पदाधिकारियों की कई बार मीटिंग हुई मीटिंग में किए गए फैसलों को भी आज तक पूरा नहीं किया गया केवल आश्वासन मिला इसी वादा खिलाफी एवं शोषण के खिलाफ ग्रुप डी के हजारों वर्करों द्वारा दिनांक 4 फरवरी 2021 को मटका चौक पर रैली करके सचिवालय का घेराव किया जाएगा और शिक्षा विभाग डायरेक्टर का पुतला फूंका जाएगा.
ग्रुप डी वर्करों के निम्नलिखित लंबित मांगें:-
1. मिड डे मील एवं कुक कम हेल्पर कर्मचारियों की रुकी हुई सैलरी जल्द से जल्द दी जाए.
2.GMH स्कूल सेक्टर 26 के 3 सफाई कर्मचारी को डीसी रेट से ठेकेदारी प्रथा पर डालने की अनुमति को रद्द किया जाए.
3. डीसी रेट पर कई साल तक कार्य करने के बावजूद धनीराम और पूनम जैसे कर्मचारियों को आउटसोर्सिंग पर डाल दिया गया और उन दोनों कर्मचारियों को दोबारा डीसी रेट पर लगाया जाए.
4. सभी कॉलेजों और स्कूलों से निकाले गए कर्मचारी को दोबारा नौकरी पर रखा जाए.
5. डीसी रेट एवं आउटसोर्सिंग के मृतक कर्मचारियों के परिवारिक मेंबरों को कांटेक्ट पर लगाया जाए।
6. रेगुलर चौकीदारों की ड्यूटी 8 घंटे निश्चित की जाए।
7. रेगुलर चौकीदारों का जो बिना किसी कारण व बिना किसी रूल के HRA काटा जा रहा है उसे तुरंत रोका जाए या स्कूल में अवैध रूप से रह रहे सभी अपने चाहने वालों से भी कमरा खाली कराया जाए।
8.GMH स्कूल सेक्टर 42 बी हेड मास्टर इंदु और GMH स्कूल सेक्टर 35 मैथ्स टीचर राजेश कुमार इन सभी के ऊपर जो शिकायत हुई उन पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जाए जिस रूल के तहत ग्रुप डी कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाती है .
9. यूनियन को ऑफिस के लिए जगह दी जाए.
10. शिक्षा विभाग में आउटसोर्सिंग पर लगे हुए कर्मचारियों को ठेका बदलने के बाद उनको निकालने की धमकी और उनसे पैसे की अवैध मांग को तुरंत रोका जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here