चंडीगढ में मचा बवाल,कांग्रेस अध्यक्ष छाबडा सहित कई गंभीर रूप से घायल,अस्पताल में भर्ती

0
472
चंडीगढ़ 2 Oct 2020। उत्तर प्रदेश के हाथरस में राहुल गांधी के साथ हुए धक्का-मुक्की के विरोध में कांग्रेसियों ने जोरदार प्रदर्शन किया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच जमकर झड़प हुई, जिसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबडा सहित कई कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उस समय झडप हुई जब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने सेक्टर-34 से बीजेपी कार्यालय के घेराव के लिए कूच किया। इस दौरान पुलिस ने बेरिकेड्स लगा कर कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिश की, लेकिन स्थिति बे काबू हो गई। इस बीच पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच झडप हुई, जिसमें छाबड़ा सहित कई जख्मी हो गए। इस झड़प में कई पुलिसकर्मी भी जख्मी हो गए।

प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा बल व वाटर कैनन का इस्तेमाल किया जिसमें छाबड़ा सहित प्रेमपाल चौहान, लव कुमार, विशाल अत्रि, प्रेमलता, पम्मी कई कार्यकर्ताओं को चोटें आई जिन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया जहां उनके टांके भी लगे। छाबड़ा ने शहर की सांसद किरण खेर, मेयर राजबाला मलिक, स्मृति ईरानी आदि को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हाथरस की बेटी के साथ घोर अन्याय व उत्तर प्रदेश में हो रही ऐसी अनगिनत घटनाओं पर ये  चुप क्यों है। कहां इनकीं सवेदनायेघ् जनता पूछ रही है।
कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबडा ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी के हाथरस में दलित बेटी के साथ हुए घिनोने अपराध के खिलाफ पीड़ित परिवार के साथ मिलने जा रहे कांग्रेस के नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के काफ़िले को वीरवार को यूपी पुलिस ने जबरन रोका, इसके बाबजूद दोनों नेता पैदल चल पड़े। योगी सरकार की पुलिस ने उनके साथ धक्कामुक्की कर उन्हें गिरा दिया। साथ ही मौके पर मौजूद सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। छाबड़ा ने मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट उर्फ योगी आदित्य नाथ पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि पहले पीड़िता की सुनवाई नहीं होती, खबर को फेक बताया जाता है।
फिर बिना पीड़ित के परिवार के सहमति के बिना व उसके परिवार को घर मे बंद कर पीड़ित का आनन फानन में रात को संस्कार कर दिया जाता है। गांव को सील कर दिया गया मीडिया से परिवार मिलना चाहता है वो भी बैन कर दिया क्यों क्या यूपी में जंगल राज है आखिर योगी सरकार क्या छुपाना चाहती है। पीड़िता के परिवार का एक बच्चा घर से किसी तरह खेतों से भागता हुआ मीडिया के पास बचकर आकर कहता है कि उसका परिवार मीडिया से बात करना चाहता हैं, उसके परिवार के सदस्यों को चुप रहने के लिए पीटा जा रहा हैए उनके फोन छीन लिए गए हैं और पूरे घर को पुलिस ने घेर रखा है योगी राज में ये यूपी में जंगलराज नही है तो क्या है! हमारे नेता राहुल गांधी व समस्त कांग्रेस हर महिला व असहाय के साथ डट के खड़ी है। मोदी और योगी सरकार ये ना भूले के राहुल गांधी इंदिरा गांधी के पोते व राजीव गांधी के बेटे है जिनका देश के लिए बलिदान का इतिहास है। कांग्रेस के किसी भी नेता व कार्यकर्ता को ना कोई डरा सकता है ना ही कोई दबा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here