कैथल: ओम प्रकाश चौटाला के कार्यक्रम में उमड़ा जनसैलाब 

0
153
चौधरी देवी लाल के 106वें जन्म दिवस के अवसर पर ‘सम्मान दिवस समारोह’
   राज सिंह
(चीफ रिपोर्टर)

कैथल, 25 सितम्बर 2019: आज इनेलो द्वारा कैथल में आयोजित जननायक चौधरी देवी लाल के 106वें जन्म दिवस के अवसर पर ‘सम्मान दिवस समारोह’ के दौरान जनसैलाब को संबोधित करते हुए चौधरी ओमप्रकाश चौटाला ने एक बड़ा ऐलान करते हुए जनसमूह से वायदा किया कि यदि आगामी विधानसभा चुनावों में इनेलो को विजय प्राप्त होती है तो सरकार बनने के बाद प्रदेश के किसानों को कर्जे की समस्या से स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू कर पूरी तरह से मुक्त किया जाएगा।
चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के अनुसार ब्याज का चक्रव्यूह तब तक बना रहेगा जब तक किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम नहीं मिलता। इस वाजिब दाम को दिलाने के लिए ही स्वामीनाथन आयोग का गठन किया गया था किंतु दुर्भाग्य से उसकी सिफारिशों को लागू नहीं किया गया जिस कारण कर्जा काफी के बावजूद किसान फिर से खेती करने के लिए और कर्ज लेने के लिए मजबूर हो जाता है। इसका निदान तभी होगा जब उन्हें उनके लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत मुनाफा प्राप्त होगा।
एक और महत्वपूर्ण ऐलान करते हुए उन्होंने घोषणा की कि 2 अक्तूबर को गांधी जयंती के अवसर पर इनेलो द्वारा अपने पार्टी के विधानसभा प्रत्याशियों की सूची जारी की जाएगी और इस सूची में 33 प्रतिशत महिलाएं होंगी। उन्होंने यह भी कहा कि केवल उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा जिनके नाम उस विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं द्वारा पार्टी को भेजे जाएंगे। उनका यह भी मानना था कि किसानों को समूचित मात्रा में बिजली और पानी उपलब्ध करवाया जाए और उन्हें अच्छी गुणवत्ता वाले बीज-खाद और कीटनाशक दिलवाए जाएं तो उनकी बहुत सी समस्याओं का समाधान हो जाता है।
चौधरी ओमप्रकाश चौटाला से पहले अभय सिंह चौटाला ने चौधरी देवी लाल जी की समाज कल्याण की नीतियों को याद करते हुए यह घोषणा की कि किसानों को तुरंत राहत देने के लिए सभी किसानों के दस लाख रुपए तक के कर्जे माफ किए जाएंगे। यही योजना छोटे दुकानदारों और व्यापारियों पर भी लागू होगी ताकि समाज का बहुत बड़ा वर्ग कर्ज से समस्या से मुक्त हो सके। उन्होंने याद दिलाया कि किसानों के कर्जे माफ करने की प्रेरणा भी इस प्रदेश और समूचे देश को चौधरी देवी लाल से ही प्राप्त हुई है।
उन्होंने कहा कि आज भले ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एक नारे के रूप में अभियान बनाकर प्रस्तुत किया गया है परंतु इस दिशा में भी सबसे पहले चौधरी देवी लाल ने ही कदम उठाए थे जब उन्होंने ‘अपनी बेटी अपना धन’ योजना के अंतर्गत कन्यादान देने का प्रावधान लागू किया था। इनेलो का यह वायदा है कि वे राज्य की बेटियों को न केवल हर प्रकार की सुरक्षा प्रदान की जाएगी बल्कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छुक छात्राएं जो किसी कारण बाधित न हों, उनकी उच्च शिक्षा भी नि:शुल्क प्रदान की जाएगी। इसी के साथ शादी के उपरांत उनका मान और सम्मान उनके ससुराल में बने यह सुनिश्चित करने के लिए उस अवसर पांच लाख रुपए तक का कन्यादान भी इनेलो सरकार द्वारा दिया जाएगा।
युवाओं का कल्याण भी चौधरी देवीलाल की सोच में प्राथमिक स्थान रखना था। उसी सोच को आगे बढ़ाते हुए अभय सिंह चौटाला ने यह वायदा किया कि राज्य के प्रत्येक परिवार से कम से कम एक व्यक्ति को रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा और जो बेरोजगार रहेंगे उन्हें 15 हजार रुपए प्रति माह का बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा।
एक अन्य महत्वपूर्ण वायदे में अभय सिंह चौटाला ने याद दिलाया कि वर्ष 1987 में चौधरी देवी लाल ने मुख्यमंत्री बनने के उपरांत सभी बुजुर्गों को सम्मानस्वरूप सौ रुपया प्रति माह ‘बुढ़ापा सम्मान पेंशन’ देने की योजना लागू की थी। अब समय बदल गया है और आज की मांगों को देखते हुए सत्ता में आने पर इनेलो इस योजना में संशोधन करते हुए 100 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से उन्हें यह सम्मान राशि प्रदान करेगी।
ट्रैक्टरों को लेकर वर्तमान सरकार की नीति की आलोचना करते हुए उन्होंने याद दिलाया कि चौधरी देवी लाल ने अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान ट्रैक्टर को ‘गड्डे’ की संज्ञा देते हुए टैक्स से मुक्त किया था क्योंकि यह किसान के जीवन का अनिवार्य अंग है। उसी नीति को अपनाते हुए सत्ता में आने पर इनेलो भी ट्रैक्टर संबंधी नीति में बदलाव लाते हुए उसके पंजीकरण का सारा खर्चा सरकार स्वयं वहन करेगी।
उन्होंने देश की सुरक्षा में हरियाणा के योगदान को पहचान देने के लिए यह वायदा भी किया कि सत्ता में आने पर इनेलो भूतपूर्व सैनिकों को गांवों में 200 गज के प्लॉट में दो कमरों का मकान बनाकर देगी।
उनसे पूर्व चौधरी देवीलाल को श्रद्धांजलि देने के लिए पूर्वोत्तर प्रदेश नागालैंड से असेेंबली के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व गृह मंत्री थानचुन भी पधारे। उन्होंने चौधरी देवी लाल को न केवल एक महान राजनीतिज्ञ बताया बल्कि एक व्यक्ति के रूप में अपने वचनों पर डटे रहने और सिद्धांतों को लागू करने के प्रति दृढ़ इच्छाशक्ति की भी भूरी-भूरी प्रशंसा की। बाहर से आए मेहमानों में वाराणसी से कवि अवध बिहारी सिंह भी पधारे जो स्व. प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के निकट सहयोगी थे और चौधरी देवी लाल के प्रशंसक भी थे और अनुयायी भी।
सम्मान समारोह प्रारंभ होने से पहले प्रदेश के अनेक गांवों से कई समूह पदयात्रा करते हुए पहुंचे जिनके सिरसा के फूलकां गांव से भी एक समूह था जिसका नेतृत्व अर्जुन चौटाला ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here