CPSWA का ऐलान मनेगी काली होली! भाजपा में भूचाल, एसडीएम कनवर राणा का रिमोट कंट्रोलर पर सीधा हमला, कहा नहीं चलेगा ये सब!

0
364

वहीं दूसरी ओर चंडीगढ प्रोपर्टी शेयर वेलफेयर एसोसिएशन ने आज यानी मंगलवार को काली होली मनाने का फैसला किया है। प्रशासन को जमकर कोसते हुए कहा कि शेयर वाइज प्रोपर्टी का रजिस्टी का बंद किया जाना तुगलकी फरमान है, जिसे किसी भी तरह से सही नहीं ठहराया जा सकता है।
कुमार मधुकर
चंडीगढ़ 7 मार्च 2023। भाजपा में जबरदस्त भूचाल के कई संकेत मिल रहे हैं। सीनियर डिप्टी मेयर कनवर राणा ने साफ तौर पर कथित रिमोट कंट्रोलर पर हमला बोलते हुए कहा कि हर काम में बेवजह हस्तक्षेप न करें। यह सब नहीं होने देंगेए क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिद्धांतों और पारदर्शिता को भारी नुकसान होगा। यहां बता दें कि नगर निगम में 6 मार्च की एमसी हाउस की बैठक में पार्किंग घपले को लेकर काफी हंगामेदार रही थी। साथ ही पहली बार हुआ  था, जब भाजपा के लोगों ने ही भाजपा मेयर के नेतृत्व वाली हाउस की बैठक को स्थगित कराकर एक रिकार्ड को खडा कर दिया। पहली ही बार हुआ जब भाजपा से सीनियर डिप्टी मेयर क

नवर राणा ने रिमोट कंट्रोलर के खिलाफ आवाज को बुलंद किया तो आम आदमी पार्टी के 14 पार्षद, कांग्रेस के 6 और भाजपा के करीब 11 पार्षद हाउस में एक जुट हो गए पार्किंग घोटाले को लेकर सीबीआई जांच की मांग की और रिमोट कंट्रोलर   को करारा जवाब दे दिया। वहीं दूसरी ओर जानकारों ने मेयर, कमिश्नर, पार्षदों, अधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सलाह दी है कि रिमोट कंट्रोल या कंट्रोलर की जद से बाहर चले जाएं अन्यथा उनका सत्यानाश होना निश्चित है। दावा किया जा रहा है कि कथित रिमोट कंट्रोलर ने कई लोगों को यूज कर उसे कूड़ेदान में फेंक दिया है। इसी को लेकर हमने बात की भाजपा से ही सीनियर डिप्टी मेयर कनवर राणा से बात की तो उन्होंने साफ साफ बताया कि यह रिमोट कंट्रोलर  कौन है और हाउस में इतना बड़ा हंगामा क्यों हुआ जिससे बैठक को स्थगित करनी पडी। शहर ही ने देश के लोगों से आग्रह है कि इस पूरी बातचीत को जरूर सुनें जिसका लिंक सामने दिया हुआ है। इसे क्लिक करें कनवर राणा से बातचीत को विस्तार से सुनें।

यहां बता दें कि छह मार्च सोमवार को सोमवार को सुबह 11 बजे सदन की बैठक शुरू होते ही दोनों विपक्षी पार्टियों ने पानी के बढ़े हुए दाम पर हंगामा शुरू कर दिया। साथ ही ई.संपर्क सेंटरों की सेवाओं पर शुल्क वसूलने का भी जमकर विरोध किया। दोनों पार्टियों का कहना है कि भाजपा शहरवासियों पर लगातार बोझ डाल रही है। इसके बाद पार्किंग घोटाले पर पूरा सदन एकजुट हो गया। दोनों विपक्षी पार्टियों के साथ भाजपा के पार्षद भी पूर्व पार्किंग ठेका कंपनी पाश्चात्य एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ खड़े हो गए। पार्षदों ने कहा कि कंपनी पर कितनी बार जुर्माना लगाया गया और कंपनी ने कितने पैसे नगर निगम में जमा करवाया, इसका पूरा ब्योरा सदन में रखा जाए। इस पर काफी देर तक हंगामा हुआ। बाद में मेयर अनूप गुप्ता ने एक स्टेटमेंट मंगवाया लेकिन पार्षद उससे संतुष्ट नहीं हुए। सभी ने कहा कि आधा.अधूरा ब्योरा नहीं पूरा स्टेटमेंट चाहिए। चंडीगढ़ नगर निगम सदन में जमकर हंगामा हुआ। पानी के बढ़े हुए दाम, पार्किंग घोटाला और सेवा शुल्क के विरोध में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के पार्षदों ने सत्ताधारी भाजपा को घेर लिया। सदन में पोस्टर दिखाए गए और पार्किंग घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की गई। भारी विरोध को देखते हुए मेयर अनूप गुप्ता ने पार्किंग घोटाले में विजिलेंस जांच के समानांतर पांच सदस्यीय जांच कमेटी बनाने की फैसला लिया। वहीं सीवरेज सेस को 30 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया। हंगामे के कारण विकास के किसी भी एजेंडे पर चर्चा के बिना ही बैठक को टाल दिया गया।

मेयर ने सभी से कहा कि 10 मिनट में बैंक स्टेटमेंट मंगा लेते हैंए तब तक विकास के एजेंडों पर चर्चा कर लें लेकिन सीनियर डिप्टी मेयर कंवरजीत सिंह राणा और अन्य पार्षद अड़ गए। पार्षदों ने कहा कि ठेका कंपनी ने कब.कब पैसे जमा कराए और उस पर कितना राशि कब से बकाया है, इसकी पूरी जानकारी सदन में रखी जाए। इसके बाद ही सदन में विकास के एजेंडे पर चर्चा की जाएगी। सीनियर डिप्टी मेयर कंवरजीत सिंह राणा, भाजपा के सौरभ जोशी, आप के दमनप्रीत सिंह, कांग्रेस की गुरबक्श रावत और गुरप्रीत सिंह गाबी ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की। मेयर अनूप गुप्ता ने कहा कि मामले की विजिलेंस जांच चल रही है लेकिन पार्षदों ने उनकी बात नहीं मानी। विरोध को देखते हुए मेयर अनूप गुप्ता ने पार्किंग घोटाले में विजिलेंस जांच के समानांतर पांच सदस्यीय एक जांच कमेटी बनाने की फैसला लिया।मेयर ने कहा कि कमेटी में कांग्रेस और आप के भी पार्षद होंगे। कमेटी में पार्षद महेश इंद्र सिद्धू, गुरबक्श रावत, जसबीर सिंह लाडी, हरदीप सिंह, उमेश घई को रखा गया है। वहीं बैठक में सीवरेज सेस को 30 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया। इससे शहर के लोगों को काफी राहत मिलेगी। बता दें कि कुछ समय पहले तक जोन एक में पार्किंग का ठेका चलाने वाली पाश्चात्य एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने 1ण्65 करोड़ रुपये की जो बैंक गारंटी दी थीए वह फर्जी निकली। कंपनी पर निगम के 7 करोड़ रुपये और बकाया हैं। फर्जीवाड़े का पता लगते ही निगम के पार्किंग विभाग के सुपरिंटेंडेंट सुनील दत्त ने सेक्टर.17 थाना पुलिस को ठेका कंपनी पाश्चात्य एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के मालिक संजय शर्मा सहित अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत दी थी। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी।

निगम की बैठक में मुख्य एजेंडों में शहर की सड़कों की रिकार्पेटिंग करनाए सेक्टर.28 की मार्केट में सीवरेज सिस्टम को मजबूत करनाए बस्सी पठाना सब स्टेशन से वाटर वर्क्सए कजौली तक 66 केवी की नई लाइन स्थापित करनाए सेक्टर.24 और सेक्टर.51 में कम्यूनिटी सेंटर का निर्माण करनाए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट सेल में अस्थायी पदों पर नियुक्तियां करनाए मनीमाजरा में नए सरकारी स्कूल का निर्माण करना आदि शामिल थे जो कि हंगामे की भेंट चढ़ गए। पूर्व मेयर प्रदीप छाबड़ा ने भी पार्किंग घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि यह जांच भी होनी चाहिए कि पूर्व ठेका कंपनी का किसी राजनीतिक दल या राजनेता से तो संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि विजिलेंस जांच मात्र औपचारिकता भर है। छाबड़ा ने कहा कि पहले से भी कई अफसरों के खिलाफ जांच बाकी है इसलिए सीबीआई जांच जरूरी है।
पार्षद गुरप्रीत सिंह के अलावा अन्य पार्षदों ने पांच रुपये के स्टांप पेपर पर सात रुपये की ड्यूटी लगाने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि यह ठीक नहीं।आम लोग परेशान हो रहे हैं। एक अप्रैल से पानी के दाम बढ़ाने का भी कांग्रेस और आप पार्षदों ने विरोध किया और दाम कम करने की मांग की। पार्षद गुरबक्श रावत पूछा कि अकाउंट स्टेटमेंट देने में देरी नहीं होनी चाहिए। सब कुछ कंप्यूटर में सुरक्षित होता है। अकाउंट अधिकारियों और कर्मचारियों को परेशानी है तो मैं मदद के लिए तैयार हूं। उन्होंने यह भी पूछा कि क्या अब हाथ से खाता बही तैयार करते हैं, जो इसे तैयार करने में कई दिन लग जाएंगे। पार्षद तरुणा मेहता ने कहा कि पार्किंग ठेकेदार लोगों से पैसा लेता गया और नगर निगम को पैसा देना बंद कर दिया। बैंक गारंटी की भी वसूली नहीं हुई। सौरभ जोशी ने कहा कि हम सभी 14 लाख जनता के लिए जिम्मेदार हैं। हम ठेकेदार के प्रति उत्तरदायी नहीं हैं। एक ठेकेदार फर्जी बैंक गारंटी देता है। उन्होंने कहा कि सभी बैंक गारंटी की जांच हो। पूछा कि ठेकेदार पर कितनी बार पेनल्टी लगाई गई। ठेकेदार के खिलाफ कितनी शिकायतें आईं। यह भी एजेंडा में आना चाहिए था। पार्षद रामचंद्र ने इन्फोर्समेंट विंग पर कहा कि रेहडी फड़ी और चाय वालों का सामन जब्त कर लेते हैं लेकिन उनके एरिया में एक बड़ा जगह कब्जा कर बैठा है उसे नहीं हटाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि काम में पारदर्शिता नहीं बरती जा रही है। सौरभ जोशी ने नगर निगम में चंडीगढ़ में जन्मे बच्चों को ही नौकरी देने की मांग की। इसका सभी पार्षदों ने समर्थन किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here