महात्मा गांधी की विचारधारा को आज की सरकार से खतरा:- कांग्रेस

0
634

चंडीगढ़ 30 jan 2020।  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 72वीं पुण्यतिथि पर अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा व वरिष्ठ नेताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें याद किया। महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर रामदरबार में एकता दिवस मनाते हुए देश के मौजूदा हालात पर गहरी चिंता जताते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने जमकर हमला बोला। महात्मा गांधी की जिस धर्मनिरपेक्ष देश के सपने को आज ध्वस्त करने की कोशिश की जा रही है, गांधी की विचारधारा को खत्म कर आरआरएस की विचारधारा को थोपने की कोशिश की जा रही है ये वही विचारधारा  है जो नाथूराम गोडसे की थी.

अपनी वोट की राजनीति के कारण धुर्वीकरण करके एक दूसरे को लड़ाया जा रहा है, युवा यूनिवर्सिटी,कॉलेज में अपनी मांगों को शांतिपूर्ण ढंग से उठा रहे पर मांगे मानना तो दूर उन पर देश द्रोह का केस दर्ज उनके विरोध का दमन किया जा रहा है, मोदी सरकार के मंत्री नफरत से भरे बयान देकर देश मे डर का माहौल बना रहे है ये महात्मा गांधी का सपना नही था, अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने कहा कि कांग्रेस बीजेपी की देश को बांटने की राजनीति को कामयाब नही होने देगी, आज सीएए कानून को ला कर देश मे सँविधान की मूल भावना की अवहेलना तो हो ही रही साथ मे महंगाई, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था से ध्यान भटकाया जा रहा है 45 साल के रिकार्ड तोड़ बेरोजगारी मुख्य मुद्दा ना बन हिन्दू-मुस्लिम, हिंदुस्तान-पाकिस्तान व मंदिर मस्जिद करके मुख्य मुद्दों से ध्यान  भटकाया जा रहा है।

गांधी के विचारों ने जिस तरह सभी धर्मों को एक ही माला में परो कर रखा उसे तोड़ने की नए कानून लाकर की जा रही है जिसे कांग्रेस हरगिज नही होने देगी। कार्यक्रम में मौजूद नेताओं में पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल, सुरिंदर सिंह, हरफूल चन्द्र कल्याण, सतीश केंथ, कमलेश बनारसीदास, दीपा दुबे, भूपिंदर बढेरी, यादविंदर मेहता, अनवर उल हक, हरमेल केसरी, हरजिंदर बावा,शशिशंकर तिवारी, ममता, मयंक पूरी, रामेश्वर गिरी, बिरिन्दर रावत, राजीव मोदगिल, परमजीत सिंह, सलीम खान, जेडपी खान, प्रेमलता, आदि मौजूद थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here